गर्मी और हीटवेव की क्या है वजह? जानें IMD कैसे करता है काम

8 February, 2022

गर्मियों के मौसम में देश के कई राज्य भीषण गर्मी की मार झेलते हैं.

Pic Credit: urf7i/instagram

बढ़ते तापमान, हीटवेव के चलते लोगों को झुलसने वाली गर्मी का सामना करना पड़ता है.

Pic Credit: urf7i/instagram

लम्बे समय तक ज्यादा गर्मी होने से हीटवेव की स्थिति पैदा हो जाती है.

Pic Credit: urf7i/instagram

मौसम विभाग कई पैमानों पर हीटवेव का पता लगाता है.

Pic Credit: urf7i/instagram

लेकिन क्या आप जानते हैं किन पैमानों पर हीटवेव का पता लगाया जाता है.

Pic Credit: urf7i/instagram

मौसम विभाग के अनुसार जहां तापमान 40 डिग्री के पार, तटीय क्षेत्रों में 37 डिग्री और पहाड़ी क्षेत्रों में 30 डिग्री सेल्सियस को पार कर जाए वहां हीटवेव घोषित कर दी जाती है.

Pic Credit: urf7i/instagram

साथ ही भारत के नियमों के अनुसार, अगर तापमान सामान्य से 6.2 डिग्री पार कर जाए तो भीषण हीटवेव की स्थिति पैदा हो जाती है. 

Pic Credit: urf7i/instagram

शहरों के न्यूनतम और अधिकतम तापमान को मौसम विभाग, एयरफोर्स और प्राइवेट संस्थानों की ऑब्जर्वेटरीज से पता लगता है, जिसके लिए थर्मोमीटर का प्रयोग किया जाता है.

Pic Credit: urf7i/instagram

मौसम विभाग का मानना है कि भीषण गर्मी और हीटवेव के पीछे की वजह एंटी साइक्लोन है. 

Pic Credit: urf7i/instagram

एंटी साइक्लोन यानी कि जब सतह पर हवा का दबाव अधिक होता है तो ऊपर की हवा नीचे आ जाती है और नीचे आते ही ये हवा गर्म हो जाती है. 

Pic Credit: urf7i/instagram
साइंस की खबरों के लिए यहां क्लिक करें
Read More

Thanks For Reading!

Next: 38 साल बाद फटा दुनिया का सबसे बड़ा ज्वालामुखी|PHOTOS